70वें वार्षिक निरंकारी संत समागम की तैयारियों में उत्साहपूर्वक जुटे श्रद्धालु भक्त

दिल्ली : हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी राजधानी के बुराड़ी तथा आउटर रिंग रोड से लगे मैदानों में एक विशाल सुन्दर शामियानों का शहर देखने को मिलेगा। 18, 19 व 20 नवम्बर, 2017 को यहाँ 70वें वार्षिक निरंकारी संत समागम का आयोजन किया जा रहाहै। इस समागम की तैयारियाँ पूरे ज़ोरों से चल रही है।

समागम का आयोजन निरंकारी सद्गुरु माता सविन्दर हरदेव जी महाराज की पावन छत्र-छाया में होगा। इस समागम में देश के सभी राज्यों तथा दूर-देशों से लाखों की संख्या में श्रद्धालु भक्तों के भाग लेने की आशा है।

समागम स्थल पर तैयारियों का उद्घाटन सद्गुरु माता सविन्दर हरदेव जी महाराज के कर कमलों द्व़ारा 8 अक्तूबर, 2017 को किया गया। तभी से इन मैदानों को समतल करने, शामियाने लगाने तथा भव्य द्वारों के निमार्ण का कार्य उत्साह पूर्वक चल रहा है ताकि सभी कार्य समागम तक पूरे हो जायें। दिल्ली तथा आस-पास के स्थानों से श्रद्धालु-भक्त प्रतिदिन बारी-बारी से प्रातः 6: 00 बजे से सांय 6: 00 बजे तक सेवा में योगदान दे रहे हैं। देश के अन्य स्थानों से भी श्रद्धालु भक्त एक सप्ताह के लिए पहुँच कर इन सेवाओं में भाग ले रहे हैं। सभी के लिए अलग-अलग समय निर्धारित किया गया है ताकि अधिक से अधिक श्रद्धालु भक्त इस अवसार का लाभ उठा सकें। यहां सेवा को भक्ति का एक अभिन्न अंग माना जाता है।

दिल्ली के बाहर से आने वाले भक्तों के ठहरने व भोजन इत्यादि की व्यवस्था समागम स्थल पर ही रहेगी। जिसका ध्यान रखते हुए सभी मैदानों में पानी, बिजली, ट्रांसपोर्ट तथा अन्य आवश्यक सुविधाएं उपलब्ध रहेंगी। इस संदर्भ में दिल्ली सरकार के विभिन्न विभागों तथा अन्य एजेंसियों द्वारा पूरा सहयोग दिया जा रहा है।

मुख्य सत्संग पंडाल के अतिरिक्त संत निरंकारी मण्डल के विभिन्न विभागों द्वारा बाहर से आने वाले भक्तों की सहायता के लिए कार्यालय स्थापित किए जाएंगे। जहां प्रकाशन विभाग की ओर से अलग-अलग स्थानों पर स्टॉल लगाए जायेंगे वहीं निरंकारी प्रर्दशनी का समागम में विशेष आकर्षण रहेगा।

सद्गुरु माता सविन्दर हरदेव जी महाराज अपना बहुत सा समय समागम मैदानों में दिशा निर्देश देने व समागम सेवाओं में व्यस्त भक्तों को आशीर्वाद देने में लगाते हैं। सद्गुरु माता जी की इच्छा है कि समागम में भाग लेने वाले सभी भक्तों को कोई असुविधा न हो, सभी आराम से समागम का आनन्द प्राप्त कर सकें।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *