रियल एस्टेट बाज़ार सुस्त होने पर भी डेवलपर्स ग्राहकों को लगातार डिलीवरी दे रहें है

गुडगाँव : रियल एस्टेट क्षेत्र में नोटबंदी के असर ने प्रभाव दिखाया था जो अब धीरे-धीरे ख़त्म हो रहा है । इस क्षेत्र में पारदर्शिता लाने तथा नियमन एवं विकास के लिए सरकार द्वारा रियल एस्टेट विनियामक अधिनियम (रेरा) लाया गया,जिसके कारण नए निर्माण की गति में कमी आई । लेकिन रियल एस्टेट का बाज़ार सुस्त होने पर भी कुछ डेवेलपर्स, ग्राहकों को लगातार डिलीवरी दे रहे हैं |

ऐसे ही डेवलपर्स हैं मैप्सको ग्रुप और डीएलएफ होम डेवलपर्स लिमिटेड (डीएचडीएल) ,जो गुड़गांव की अग्रणी रियल एस्टेट कम्पनी हैं | मैप्सको ने डेढ़ साल में पांच परियोजनाओं मैप्सको कासबेला, पैराडाइस, रॉयल विला , गार्डेन एस्टेट और सिटी होम को सफलतापूर्वक डिलीवरी देकर एक मिसाल कायम की है, यह उस समय हुआ जब देश में रेरा और जीएसटी जैसे नीतियों से बदलाव शुरू किया गया था । यह दो नीतियां क्षेत्र में पारदर्शिता और जवाबदेही लाती हैं, अभी तक यह अपने प्राथमिक चरण में हैं और रियल एस्टेट क्षेत्र उनसे संबंधित चुनौतियों का सामना कर रही है । वहीं डीएलएफ की सहायक कंपनी डीएलएफ होम डेवलपर्स लिमिटेड (डीएचडीएल) ने गुरुग्राम आधारित अपनी दो परियोजनाएं द प्राइमस और द रीगल गार्डन खरीदारों को सौंप दिया है |

इस विषय पर मैप्सको ग्रुप के निदेशक राहुल सिंगला ने कहा कि –“ डेढ़ साल में पांच परियोजनाओं की डिलीवरी की घोषणा करते हुए मुझे बहुत प्रसन्नता और गर्व हो रहा है | यह अभी शुरुआत है , मैप्सको ने एक यात्रा का आरम्भ किया है आगे भी बहुत सी परियोजनाओं की डिलीवरी तुरंत की जायेगी |”

इस उभरते हुए रियल एस्टेट डेवलपर ने अनेक परियोजनाओं को सफलता पूर्वक डिलीवर किया है | लगभग 4000 धारक यहाँ के गुणवत्ता से पूरी तरह संतुष्ट हैं | अभी तक इस ग्रुप ने 6 मिलियन स्क्वायर फीट क्षेत्र पर कार्य पूरा कर लिया है और1.5 मिलियन स्क्वायर फीट क्षेत्र पर कार्य तेज़ी से हो रहा है |
फ्लैट मालिकों को बधाई देते हुए, सिंगला ने कहा कि- “हमारा सहयोग यहीं समाप्त नहीं होता है, हम आगे भी इस उद्यम को आगे बढ़ाने में आपकी सहायता करने के लिए तत्पर हैं।

हमने ऐसे समय में प्रोजेक्ट्स वितरित किए हैं जब पूरे रियल एस्टेट क्षेत्र में स्पष्टता की आवश्यकता है, लेकिन मैप्सको सफलतापूर्वक , अपने नयी परियोजनाओं के साथ सफलता की सीढ़ी चढ़ रहा है |”

मैप्सको कासबेला में एक अपार्टमेंट / विला / पैंटहाउस का एक सेट है, पैराडाईज में 2/3 बीएचके अपार्टमेंट हैं, रॉयल विले 3/4/5 बीएचके अपार्टमेंट हैं।दूसरी तरफ गार्डेन एस्टेट में 180,250,350,500 और 1000 स्क्वायर यार्ड के प्लाट और सिटी होम्स में 180, 275, और 350 स्क्वायर यार्ड के फ्लोर हैं |

डीएचडीएल द्वारा 2012 में शुरू की गयी परियोजना द प्राइमस, सेक्टर 82-ए गुरुग्राम में स्थित है । बृहद मांग वाले 3 और4 बेडरूम अपार्टमेंट क्रमशः 1818 वर्ग फुट से 2606 वर्ग फुट तक के क्षेत्र में फैला हुआ है | डीएलएफ द्वारा खरीदारों को सभी 624 यूनिट वितरित कर दिया गया है |

द रीगल गार्डन जो 2012 में ही शुरू किया गया था, जिसमें 3 और 4 बेडरूम अपार्टमेंट शामिल हैं और जो क्रमशः 1717वर्ग फुट से 2225 वर्ग फुट के क्षेत्र में फैला हुआ है | यह वास्तुकला की भूमध्य (मेडिटेरेनियन) शैली में तैयार किया गया है ,यह सुंदर डिजाइन वाली परियोजना रणनीतिक रूप से सेक्टर 90, गुरुग्राम में स्थित है । कुल 562 इकाइयों को सफलतापूर्वक ग्राहकों को सौंप दिया गया है |

गुरप्रीत सिंह, जिनका परिवार मैक्सको कासबेला में एक मकान के मालिक हैं ने बताया कि-“ मैं अपने अपार्टमेंट की डिलीवरी पर उत्साहित हूँ, यह गुड़गांव सेक्टर 82 में स्थित एक प्रीमियम आवासीय परियोजना है। देर से ही सही इस क्षेत्र में निर्माण में तेजी आई और आस- पास कई शिक्षण संस्थाओं, वाणिज्यिक संगठनों, मनोरंजन और मनोरंजन केंद्र बन गए हैं|”

निःसंदेह अब रियल एस्टेट क्षेत्र में तेजी आएगी और उम्मीद है की वर्ष 2018 / 19 के बजट में कुछ ऐसे प्रावधान आयें की ग्राहकों और डेवलपर्स दोनों को लाभ मिल सके | वर्तमान केंद्र और राज्य सरकार का उद्देश्य 2022 तक सबको आवास को देखते हुए इस क्षेत्र में एक बार फिर उम्मीद जगी है | अन्य डेवलपर्स भी खरीदारों और निवशकों को ध्यान में रखते हुए अपने परियोजनाओं पर कार्य कर रहे हैं |

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *