किसानों से अपने हक के लिए एकजुट होने का जयंत का आह्वान

मथुरा। राष्ट्रीय लोकदल के उपाध्यक्ष जयन्त चौधरी ने कहा कि आज राजनीति का स्तर इस हद तक गिर गया है कि खुद मुख्यमंत्री त्योहारों के नाम पर लोगों के बांट रहे हैं।
मथुरा जिले के नौहझील ब्लाक के मेरकी इंण्टर कालेज में आयोजित किसान आक्रोश पंचायत में रालोद उपाध्यक्ष जयंत चौधरी ने कही कि किसान मजदूर के हितों की बात कोई नहीं कर रहा है। उन्होंने कहा कि किसानों बिरादरी को अपने हक के लिए एकजुट होना होगा।

जयन्त ने कहा कि सरकार ने कृषि कल्याण सेल में 20,374 करोड़ बीमा कम्पनियों को प्रीमियम के रूप में दिया है जब कि कम्पनियों ने बमुश्किल 4 हजार करोड़ उन्हें बांटा है तथा शेष धनराशि उनके मुनाफे में गई है।

उनका कहना था कि भाजपा सरकारें गाय से राजनीतिक प्रेम करने का नाटक रच रही हैं पर यह नही देख रही हैं कि आवारा गायों से किसान की फसल को कितना नुकसान हो रहा है। उन्होंने कहा कि आवारा गायों से फसल को होनेवाले नुकसान को भी बीमा में शामिल किया जाना चाहिए और खेती को भी मनरेगा में शामिल किया जाना चाहिए।
उन्होंने आरोप लगाया कि छोटे एवं भूमिहीन किसानों की हालत भाजपा के शासन में बद से बदतर हो गई है। भाजपा सरकार किसान की जमीन छीनने का काम कर रही है।उन्होंने कहा कि भाजपा झूठ बोलनेवाली मशीन है।

सोमवार को मथुरा जिले के नौहझील कस्बे में आयोजित किसान आक्रोश पंचायत में पूर्व विधायक व रालोद पश्चिमी यूपी अध्यक्ष डॉ. अनिल चौधरी ने कहा कि आज देश का अन्नदाता बर्बादी के कगार पर खड़ा है। जो सरकारें किसानों के हितों की रक्षा नहीं कर सकती उनको सत्ता से बाहर कर देना चाहिए। रालोद के वरिष्ठ नेता योगेश नौहवार ने शासन-प्रशासन को चेतावनी देते हुए कहा कि यदि बरसात और ओलावृष्टि से प्रभावित किसानों को जल्दी ही मुआवजा नहीं मिला तो किसान आंदोलन और अधिक उग्र होगा। उन्होंने स्वयं डीएम से खेतों में जाकर फसल की क्रोप कटिंग कराने की मांग रखी। रालोद जिलाध्यक्ष कु. नरेन्द्र सिंह ने पांच सूत्रीय मांगपत्र उपजिलाधिकारी वरुन कुमार पांडेय को सौंपा।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *