Category: Poems

0

jeevan ka khel






उफ्फ ये जीवन के अँधेरे-उजालो का खेल। जैसे बारिशों में भीगने से बचना चाहने वालो का छाते से छूट गया हो मेल।। जिंदगी हर रोज एक सबक सिखाने में लगी है। बाढ़ बहुत तेज...

0

वर्षा






उमड़-घुमड़ कर आए बादल,उमड़ घुमड़ कर आए बादल। छोड़कर दामन बादल का वर्षा की बूंदे धरती की ओर बढ़ती जाएं।। प्यासी धरती भी बूंदों का आलिंगन कर खुशियो से भर जाए । अरसे से...

0

कलम की मार से मचा हाहाकार






सबकी अपनी सोच है,सबका अपना मन। लगती हो लगे बुरी,पर हम लिखते जीवन।। हम लिखते जीवन,किसी को क्यों चुभता है। चुभन कलम की तेज,जैसे भाला चुभता है।। भाला चलता है ऐसे,जैसे धरती पर चलता...

0

पानी






छम छम छम छमआया पानी देखो आसमान पर छाया पानी उमड़ – घुमड़ कर आया पानी कहती नानी तुम सुनो कहानी रिमझिम रिमझिम आया पानी ठंडी ठंडी हवा भी लाया पानी तेज अंधड़ ले...

0

पतंग






पतंगों का जीवन जीना कोई आसान नही। किसी और के हाथों में देकर डोर जीना कोई आसान नही ।। अपनी मर्जी से ये कब उड़ पाती है । जिसके हाथों में डोर उसके इशारों...

0

प्यारा बचपन






खट्टे मीठे फल खाते थे । हम बचपन मे मौज उड़ाते थे।। 50 पैसे की कुल्फी खाकर । हम बचपन मे मौज उड़ाते थे।। ना कोई चिंता ना कोई डर था । माँ-बाप की...

0

काले मेघा आओ






काले मेघा आओ ना आसमान पर छाओ ना रिमझिम बारिश लाओ ना बागों में मोर नचाओ ना उमड़ घुमड़ कर आओ ना नदी ताल सारे सूखे हैं इनको तुम भर जाओ ना कागज़ की...

0

योगा और मैं






योगा दिवस मनाने मे,हो गये सब मशरूफ। रोज कमाना है रोटी जिसे,योगा कैसे करे वो मजबूर।। दो रोटी कमाने की खातिर गरीब की मेहनत इतनी हो जावे । जैसे ही सोये गरीब जमीन के...

0

सत्य






सत्य के पथ पर चलना आसान नही । झूठ से बगावत करना आसान नही ।। सत्य के पथ पर कोई ना साथ आएगा । झूठो की है फ़ौज,कहाँ सच बच पाएगा ।। सत्य के...

0

योग दिवस पर






सब वैदिक विधि गुमनाम हुई, अब घर घर घूमे रोग दिवस. हम जगत गुरु थे किसी समय, अब भूल रहे हैं योग दिवस. हम अन्तिम शो के चलते अब, दो तीन बजे तक सोते...