X
    Categories: मथुराशहर-देश

प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी 11 फरवरी, 2019 को अक्षय पात्र के 3 बिलियन भोजन परोसने के कार्यक्रम की शोभा बढ़ायेंगे

माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी 11 फरवरी 2019 को सुबह 11.30 बजे वृंदावन, मथुरा स्थित अक्षय पात्र फाउंडेशन के परिसर में आयोजित होने वाले फाउंडेशन के 3 बिलियन भोजन परोसने के कार्यक्रम में शामिल होंगे।

इस कार्यक्रम में उत्तर प्रदेश के माननीय मुख्यमंत्री, श्री योगी आदित्यनाथ; और माननीय मानव संसाधन विकास मंत्री श्री प्रकाश जावड़ेकर भी प्रधानमंत्री के साथ शामिल होंगे।

अन्य गणमान्य व्यक्तियों जैसे मथुरा की सांसद श्रीमती हेमा मालिनी, उत्तर प्रदेश सरकार के माननीय ऊर्जा मंत्री श्री श्रीकांत शर्मा, उत्तर प्रदेश सरकार के डेयरी विकास, धार्मिक मामले, संस्कृति, मुस्लिम वक्फ, हज व अल्पसंख्यक कल्याण मामलों के मंत्री श्री लक्ष्मी नारायण चौधरी, और उत्तर प्रदेश सरकार की बुनियादी शिक्षा, बाल विकास और पोषण, राजस्व और वित्त विभाग की माननीय राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्रीमती अनुपमा जायसवाल के भी इस कार्यक्रम की शोभा बढ़ाने की उम्मीद है।

गोवर्धन से विधायक श्री कारिंदा सिंह, मांट से विधायक श्री श्याम सुंदर शर्मा, बलदेव से विधायक श्री पूरन प्रकाश, और मथुरा-वृंदावन नगर निगम के महापौर श्री मुकेश आर्य बंधु के भी उपस्थित होने की उम्मीद है।

अक्षय पात्र ने वर्ष 2000 में अपने कार्यक्रम की शुरुआत के बाद से,  2012 में 1 बिलियन संचयी भोजन परोसने के साथ अपनी पहली प्रमुख उपलब्धि को हासिल किया। 2016 तक, संगठन 2 बिलियन भोजन परोस चुका था। 27 अगस्त, 2016 को बेंगलुरु में भारत के तत्कालीन राष्ट्रपति श्री प्रणब मुखर्जी की उपस्थिति में इस उपलब्धि का जश्न मनाया गया।

अक्षय पात्र ने अपने सभी लाभार्थियों के पोषण और स्वास्थ्य की स्थिति में सुधार सुनिश्चित करने के लिए लगातार संतुलित, पौष्टिक और स्वादिष्ट भोजन प्रदान करने का निरंतर प्रयास किया है। भोजन देने में क्षेत्रीय स्वीकार्यता का पालन किया जाता है, इस प्रकार यह मेन्‍यू उत्तर भारत में मुख्य रूप से गेहूं आधारित और दक्षिण भारत व ओडिशा और असम जैसे राज्यों में चावल आधारित होता है।

अक्षय पात्र में, बच्चों के लिए विविध प्रकार का और अलग—अलग स्वाद वाला भोजन सुनिश्चित करने के लिए एक व्यवस्थित और चक्रीय तरीके से मेन्‍यू को संशोधित करने का सचेत प्रयास किया जाता है।

फाउंडेशन के स्कूल लंच कार्यक्रम में खाद्य सुरक्षा, गुणवत्ता और स्वच्छता को अत्यधिक महत्व दिया जाता है। कच्चे माल से लेकर पके हुए भोजन तक, उत्पादों के मूल्यांकन की सुविधा के लिए खाद्य सुरक्षा और गुणवत्ता नियंत्रण प्रयोगशाला (एफएसक्यूसी लैब्स) की स्थापना की गई है।

जब पोषण सुरक्षा की बात आती है तो मात्रा, गुणवत्ता के समान ही महत्वपूर्ण होती है, बच्चों को पर्याप्त मात्रा में पौष्टिक भोजन की उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए एक दिन पहले ही इंडेंट इकट्ठे कर लिए जाते हैं।

अक्षय पात्र ने स्कूल लंच कार्यक्रम के विभिन्न पहलुओं पर मूल्यवान इनपुट प्राप्त करने और मार्गदर्शन के लिए आईसीआरआईएसएटी (आइसीआरआइएसएटी) और सीएफटीआरआई (सीएफटीआरआइ) जैसे प्रमुख संगठनों के साथ साझेदारी की है।

मध्याह्न भोजन कार्यक्रम (मिड-डे मील प्रोग्राम) के कार्यान्वयन भागीदार के रूप में, अक्षय पात्र को पूरी यात्रा के दौरान मानव संसाधन विकास मंत्रालय (एमएचआरडी), भारत सरकार और विभिन्न राज्य सरकारों का समर्थन और प्रोत्साहन प्राप्त हुआ है। फाउंडेशन, भोजन कार्यक्रम के हिस्से के रूप में हर दिन स्कूली बच्चों को गुणवत्तापूर्ण, स्वच्छ और पौष्टिक भोजन देने के प्रति अपनी प्रतिबद्धता को जारी रखेगा।

This article was last modified on February 9, 2019 1:42 AM

This website uses cookies.