X
    Categories: मथुराशहर-देश

बजट में किये गए प्रावधान के अनुरूप कार्य करने पर किसान की आय होगी दो गुनीः राम नाईक

मथुरा।उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक ने कहा कि जिस प्रकार से उत्तर प्रदेश के बजट में कृषि का बजट प्रस्तुत किया गया है उसके सही उपयोग पर प्रधानमंत्री का किसान की आय दो गुनी करने का सपना पूरा हो जाएगा।

दीनदयाल वेटेरिनरी यूनिवर्सिटी में दीनदयाल सभागार का उदघाटन करते हुए उन्होंने कहा कि यदि अधिकारी, जन प्रतिनिधि और कर्मचारी उसी भावना से काम करेंगे जिस भावना से बजट में कृषि और पशुपालन पर बल दिया गया है तो किसान की आय जरूरी दो गुनी होगी।उन्होंने इस बात पर भी बल दिया कि केवल उत्पादन बढ़ाने से ही किसान की आय मे बढ़ोत्तरी नही होगी जब तक लागत दर में कमी नही आएगी।

उन्होंने केन्द्र सरकार को मछुहारों की समस्या के निराकरण के लिए अलग से मंत्रालय बनाने एवं मछुआरों द्वारा बैंक से ऋण लेने पर व्याज की दर मात्र चार प्रतिशत रखने को  सरकार का एक प्रगतिशील कदम बताया।उन्होंने उम्मीद जताई कि जिन प्रयोगशालाओं का आज उन्होंने उदघाटन किया है वे अपने अनुसंधान का लाभ जन जन तक पहुंचाने का प्रयास करेंगी।

राम नाईक ने विश्वविद्यालयकर्मियों को इस बात के लिए बधाई दी कि यह विश्वविद्यालय प्रदेश के कृषि विश्वविद्यालयों में प्रथम नम्बर पर आया है साथ ही इस बात पर प्रसन्नता जाहिर की कि पिछले तीन साल में उनके पास यूनिवर्सिटी की एक भी शिकायत नही पहुंची है।

पूर्व में राम नाईक ने उम्मीद जताई कि जिस हाल का आज उन्होंने उदघाटन किया है वह लोगों में आपस में संवाद स्थापित करनेवाला स्थान बनेगा क्योंकि यह एक ऐसे महामानव के नाम पर बना है जिसने एकात्म मानववाद का स्पष्टीकरण सारी दुनिया को दिया।

राज्यपाल ने कहा कि दीनदयाल उपाध्याय के समय राजनैति प्रद्दूषण था। इसे दूर करने के लिए  उन्होंने जैसा कार्य किया अतुलनीय है। दीनदयाल उपाध्याय के समय दुनिया पूंजीवाद और साम्यवाद में बंट गई थी तथा दोनो की ही परिकल्पना आर्थिक मानव की थी।ऐसे समय में उपाध्याय ने कहा कि आर्थिक मानव को देखकर नीति बनाने की जगह संपूर्ण मानव को लेकर नीति बनाई जानी चाहिए जिसमें संस्कार और भावना का भी समावेश हो।उनका दर्शन भारतीय संस्कृति का निचोड़ है और वसुधैव कुटुम्बकम की भावना से ओतप्रोत है।उनका कहना था कि समाज को परिवार की तरह देखा जाना चाहिए।

राज्यपाल नाइक ने कहा कि उत्तर प्रदेश में प्राकृतिक संपदा का खजाना है आवश्यकता केवल इस खजाने का सही उपयोग करने की है जिसे वर्तमान सरकार बखूबी कर रही है।

इस अवसर पर बोलते हुए उत्तर प्रदेश के पशुधन, लघु सिंचाई एवं मत्स्य विभाग मंत्री एसपी सिंह बघेल ने बताया कि छुट्टा जानवरों के लिए सरकार ने  किस प्रकार कृत्रिम गर्भाधान की ऐसी व्यवस्था की है जिसमें अधिकांशतः बछिया ही पैदा होगी तथा गोशाला खोलने के लिए सरकार ने और क्या व्यवस्थाएं की है।

पूर्व में भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के कृषि विभाग के उपमहानिदेशक डा0 नरेन्द्र सिंह राठौड़ ने कहा कि भारत सरकार किसान हित में काम कर रही है तथा यह कहना ठीक नही है कि 2022 तक किसान की आय दो गुनी नही होगी। उन्होंने बताया कि 13 राज्यों में किसान की आय जिस प्रकार दो गुनी पहुंच रही है उससे वह कह सकते हैं कि दे गुनी क्या यदि यह चार गुनी हो जाय तो आश्चर्य न होगा।उन्होंने प्रधानमंत्री  किसान योजना को एक किसान हितकारी कदम बताया और कहा कि ऐसी व्यवस्था की गई है कि अब यदि प्राकृतिक आपदा आती है तो सरकार उसे वहन करेगी।इस अवसर पर दीनदयाल वेटेरिनरी यूनिवर्सिटी के कुलपति प्रो0 के0 एम0 एल0 पाठक ने विश्वविद्यालय की प्रगति का विवरण प्रस्तुत किया तथा यह भी बताया कि नई लैब बनने से किसान की आय में किस प्रकार इजाफा होगा।

This article was last modified on February 13, 2019 5:44 AM

This website uses cookies.