किया मोटर्स इंडिया ने भविष्य के इको परिवहन के लिये आंध्र प्रदेश सरकार के साथ समझौता अनुबंध किया

दुनिया के आठवें सबसे बड़े ऑटोमेकर किया मोटर्स इंडिया ने आंध्र प्रदेश सरकार के साथ एक समझौता अनुबंध (एमओयू) पर हस्ताक्षर किये हैं, जिसके तहत ‘भविष्य के इको परिवहन के लिये भागीदारी’ की जाएगी। यह भागीदारी इलेक्ट्रिक वाहनों (ईवी) के बढ़ते उपयोग और स्थानीय ईवी आधारभूत संरचना के विकास में आंध्र प्रदेश सरकार को सहयोग करने में किया की प्रतिबद्धता दर्शाती है।

इस समझौता ज्ञापन पर आंध्र प्रदेश के माननीय मुख्यमंत्री श्री एन. चंद्रबाबू नायडू और किया मोटर्स इंडिया के प्रबंध निदेशक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी श्री कूखयुन शिम की उपस्थिति में हस्ताक्षर हुए। इस अनुबंध के हिस्से के तौर पर किया मोटर्स ने सरकार को विश्व में सर्वश्रेष्ठ बिक्री वाली अपनी इको कार के तीन उदाहरण दिये- नाइरो हाइब्रिड, नाइरो प्लग-इन हाइब्रिड और नाइरो ईवी। किया विजयवाड़ा में एक व्हीकल चार्जिंग स्टेशन भी स्थापित कर रहा है, ताकि क्षेत्रीय सरकार के प्रतिनिधि अपने नये पर्यावरण-हितैषी वाहनों को चार्ज कर सकें।

यह भागीदारी आंध्र प्रदेश के नये अनंतपुर संयंत्र में पर्यावरण-हितैषी वाहन निर्मित करने की किया की दीर्घकालिक प्रतिबद्धता दर्शाती है। यह तेजी से बढ़ते भारतीय बाजार में स्वच्छ परिवहन के भविष्य की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है।

आंध्र प्रदेश सरकार 14 ‘स्मार्ट शहर’ विकसित कर रही है, अपने निवासियों का जीवन उन्नत कर रही है और व्यवसायों को उनके संसाधनों के अधिकतम उपयोग में सक्षम बना रही है। बाजार के लिये किया की प्रतिबद्धता के हिस्से के तौर पर यह कोरीयन ब्राण्ड क्षेत्रीय सरकार के साथ काम कर रहा है, ताकि ऐसी परिवहन प्रणाली की नई पीढ़ी आए, जो इन शहरों के नागरिकों की सर्वश्रेष्ठ सेवा करे। यह भारतीय बाजार में वैकल्पिक परिवहन लाने की किया की व्यापक योजना का हिस्सा है।

श्री कूखयुन शिम ने कहा, ‘‘भविष्य को कनेक्टेड परिवहन और स्थायी प्रौद्योगिकी परिभाषित करेगी, जो ग्राहकों की जीवनशैली और पर्यावरण की भलाई में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है।’’

‘‘किया वैश्विक पर्यावरण-हितैषी वाहन बाजार में अग्रणी पोजीशन ले रही है और हमें विश्वास है कि हम भारत में भी यह उपलब्धि अर्जित करेंगे। आंध्र प्रदेश सरकार के साथ यह नई भागीदारी दर्शाती है कि हम किस प्रकार ईवी आधारभूत संरचना की वृद्धि और पर्यावरण-हितैषी वाहनों के उपयोग को सहयोग दे सकते हैं और भारत में भविष्य के परिवहन के लिये नई और रोमांचक संभावनाएं प्रस्तुत कर सकते हैं।’’

किया की एस रणनीति
किया की ‘एस’ रणनीति ऑटोनॉमस, कनेक्टेड और इको/इलेक्ट्रिक कारों के उत्पादन पर आधारित है, जिसके अंतर्गत ब्राण्ड वर्ष 2030 तक प्रत्येक व्हीकल सेगमेंट में कनेक्टेड कार टेक्नोलॉजीज अपनाएगा। कंपनी के पास वर्ष 2025 तक 16 इलेक्ट्रिफाइड वाहन प्रस्तुत करने की योजना है। कंपनी ऑटोनॉमस ड्राइविंग और पर्यावरण-हितैषी वाहनों के विकास और व्याववसायीकरण में निवेश जारी रखेगी।

किया लगभग बीस वर्षों से पर्यावरण-हितैषी व्हीकल टेक्नोलॉजी विकसित कर रहा है। वर्ष 2009 में कंपनी ने जीरो एमिशन व्हीकल्स की तलाश में सब-ब्राण्ड ‘इकोडायनैमिक्स’ लॉन्च किया था। वर्ष 2009 में किया के पहले ‘इकोडायनैमिक्स’ वाहन फोर्ट एलपी हाइब्रिड की प्रस्तुति के बाद कंपनी ने वैश्विक बाजारों में अपनी पर्यावरण-हितैषी वाहन श्रृंखला में तीन हाइब्रिड, दो प्लग-इन हाइब्रिड और दो बैटरी ईवी का समावेश किया है। कंपनी ने फ्यूल-सेल इलेक्ट्रिक व्हीकल टेक्नोलॉजी विकसित करना भी जारी रखा है।

आंध्र प्रदेश सरकार को दिये गये तीन नाइरो वाहनों में शामिल हैं-नया नाइरो ईवी-पूरी तरह से इलेक्ट्रिक क्रॉसओवर है जोकि वर्ल्डेवाइड हार्मोनाइज्डश लाइट व्हीाकल टेस्टै प्रोसीजर (डब्लूरएलटीपी) कंबाइन्डक टेस्ट् साइकल द्वारा एक बार चार्ज करने पर 455 किलोमीटर्स की यात्रा करने में सक्षम है। नाइरो हाइब्रिड और नाइरो प्लाग-इन हाइब्रिड दुनिया भर में पहले ही सबसे अधिक बिकने वाले हाइब्रिड वाहनहैं, इसमें पैरेलल हाइब्रिड पावरट्रेन लगाया गया है जोकि पेट्रोल एवं इलेक्ट्रिक पावर में अपने आप स्विच हो जाता है- अथवा दोनों का संयोजन प्रदान करता है, जब भी संभव होता है तो यह इलेक्ट्रिक व्हीोकल रेंज को अधिकतम करने के लिए इनकी बैटरियों को रिचार्ज करता है।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Instagram
Hide Buttons