X
    Categories: दिल्ली

रूस से दस साल के लिए परमाणु चालित पनडुब्बी का सौदा किया।

नई दिल्ली। भारत ने गुरुवार को रूस से परमाणु चालित हमलावर पनडुब्बी को दस साल के लिए पट्टे पर लेने के समझौते पर हस्ताक्षर किए। भारत को यह पनडुब्री तीन अरब डॉलर (करीब 20 हजार करोड़ रुपये) में इस साल के लिए मिलेगी। महीनों चली बातचीत के बाद दोनों देशों की सरकारों के बीच यह समझौता हुआ है। समझौते के अनुसार रूस अकुला श्रेणी की पनडुब्ली भारतीय नौसेना को सन 2025 में देगा।

भारत में यह चक्र तृतीय के नाम से जानी जाएगी। यह रूस से भारत को पट्टे पर मिलने वाली तीसरी पनडुब्बी होगी। इससे पहले भारत नई ने 1988 में परमाणु शक्ति वाली पनडुब्छी आइएनएस चक्र तीन साल के पट्टे पर रूस से ली थी।दूसरी आइएनएस चक्र पनडुब्बी पुलवामा हमले 2012 में दस साल के लिए रूस से ली गई। चक्र द्वितीय का पट्टझ 2022 में ख़त्म होगा। भारत सरकार उसका पझ बढ़ाने पर भी विचार कर रही है।

ताजा सौदे के बारे अन्य बातें बताने से रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता ने इन्कार कर दिया। हिंदू महासागर में चीन की बढ़ती ताकत डिफेंस के मद्देनजर भारत भी अपनी समुद्री ताकत की ओर ज्यादा ध्यान दे रहा है। चक्र तीन के लिए सौदा भारत और रूस के एके-203 राइफलों के संयुक्त उत्पादन की इकाई का अमेठी में उद्घाटन के ठीक बाद हुआहैंइससे पहले अक्टूबर 2018 में दोनों देशों के बीच एस-400 एयर डिफेंस सिस्टम की ख़रीद का सौदा हुआ था

This article was last modified on March 9, 2019 6:14 AM

This website uses cookies.