HomeNewsयमुनापार युवा विकास मंच ने मांग करी है कि परिसीमन आयोग की...

यमुनापार युवा विकास मंच ने मांग करी है कि परिसीमन आयोग की मनमानी बंद होनी चाहिए।

परिसीमन आयोग ने जब जनता का पक्ष सुनना ही

नही होता तो क्यों मांगता हैं आपत्तियां : विपिन जैन

        परिसीमन आयोग ने विसंगतियों को दूर

किए बिना कराए दिल्ली के निगम चुनाव

यमुनापार युवा विकास मंच ने मांग करी है कि परिसीमन आयोग की मनमानी बंद होनी चाहिए । क्योंकि अक्सर यह देखने को मिला है कि वह जो भी फैसला कर लेता । उसी को क्रियान्वित करने पर आमादा रहता है । लोक दिखावे के लिए वह जनता ने अपने फैसले के प्रति आपतियाँ तो मांगता है लेकिन करता अपने मन की ही है ।


दिल्ली परिसीमन आयोग की मनमानी के संदर्भ में यमुनापार युवा विकास मंच के अध्यक्ष विपिन जैन का कहना है कि अभी हाल में दिल्ली में निगम के वार्डों के लिए किए गए परिसीमन में बरती गई अनियमितताओं को लेकर आयोग के पास दर्ज सैकड़ों शिकायतों की तरह उन्होंने भी शाहदरा वार्ड के परिसीमन की विसंगतियों को
लेकर आयोग के समक्ष जनहित में शिकायत दर्ज कराई लेकिन विडंबना यह देखने को मिली उनकी शिकायत पर आयोग द्वारा उनका पक्ष सुनना भी जरूरी नही समझा गया और चुनाव हो गए ।


आयोग के इस प्रकार के रवैए से यह प्रश्न खड़ा होता है कि जब आयोग ने लोगो की शिकायत पर उनका पक्ष सुन ही नही है तो उनसे आपत्तियां मांगी ही क्यों जाती हैं । ज्ञात रहे आयोग द्वारा चुनाव से पहले स्वयं यह एलान किया था कि परिसीमन को लेकर यदि किसी को कोई आपत्ति है तो वह आयोग में अपनी आपत्ति दर्ज करा सकता है । आयोग लोगों की आपत्तियों का निराकरण करने का हर संभव प्रयास करेगा ।


ज्ञात रहे मंच के अध्यक्ष विपिन जैन शाहदरा वार्ड (215 ) का उदाहरण देते हुए बताया था कि भौगोलिक दृष्टि से भी जिस कस्तूरबा नगर की सीमा शाहदरा वार्ड से सीधी छुती तक नही उसके हिस्से को भी नए ड्राफ्ट में शाहदरा वार्ड में समाहित दर्शाया गया।


उल्लेखनीय है कि इस संबंध में यमुनापार युवा विकास मंच ने दिल्ली राज्य परिसीमन आयोग के चेयरमैन के साथ साथ देश के गृह मंत्री अमित शाह को भी पत्र लिखकर मांग करी थी । परिसीमन आयोग के अव्यवहारिक रवैए को देखते हुए विपिन जैन ने यह भी मांग करी है कि यदि देश में लोकतंत्र को मजबूत करना है तो आयोग की इस प्रकार की कार्यशैली में व्यापक स्तर पर सुधार करना होगा ।

इस संदर्भ में देश के गृह मंत्री को सीधा हस्तक्षेप करना चाहिए ।
मंच के अध्यक्ष विपिन जैन ने बताया था कि राज्य चुनाव आयोग की वेबसाइट पर 18-10-22 को दर्शाएँ गए परिसीमन के अनुसार दिए गए नक्शे में कुछ EB No. नही दर्शाए गए । यहाँ पर कि वार्ड कोड 238 के EB no. 21, 33,34, 35,36,37 व 48 आयोग द्वारा जारी किए गए नक्शे का हिस्सा नही है। जबकि वार्ड़ कोड 238 के EB no. 5,6,7,8,9,10 व 11 शाहदरा वार्ड़ के दर्शाए गए नक्शे के अनुसार हिस्सा है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments