जीटीबीएच और यूसीएमएस की चारदीवारी के आसपास का अतिक्रमण हटाया गया।

ईडीएमसी द्वारा जीटीबीएच और यूसीएमएस के आसपास अवैध रेहड़ी-पटरी वालों द्वारा सड़कों और फुटपाथ पर किए गए सभी अतिक्रमणों को हटा दिया गया है। “यह एक अच्छा विकल्प है क्योंकि यह मरीजों को ले जाने वाले वाहनों और एम्बुलेंसों की सुचारू आवाजाही सुनिश्चित करेगा। गेट के पास अतिक्रमण के कारण अस्पताल के कर्मचारियों और विकलांग व्यक्तियों की आवाजाही भी मुश्किल बना रहा था।

डॉ सुभाष गिरी, चिकित्सा निदेशक, गुरु तेग बहादुर अस्पताल, ने बताया की यह अस्पताल के परिवेश को स्वच्छ और पर्यावरण के अनुकूल बना देगा, परिसर के चारों ओर कचरा, पानी और अपशिष्ट संग्रह को कम करेगा और आगे चलकर डेंगू, मलेरिया आदि जैसे वेक्टर जनित रोगों के प्रसार को रोकेगा और साथ ही डायरिया, हेपेटाइटिस, टाइफाइड जैसी पानी और खाद्य जनित बीमारियों को भी रोकेगा और मानसून से पहले एक अच्छा कदम है।

इसके अलावा, यूसीएमएस और जीटीबीएच के आसपास के क्षेत्र को ‘नो हॉकर’ जोन घोषित करने का अनुरोध भेजा जाएगा क्योंकि मुंबई उच्च न्यायालय के फैसले के अनुसार अस्पतालों और स्कूलों के आसपास के क्षेत्रों में किसी भी अतिक्रमण / हॉकर की अनुमति नहीं दी जानी चाहिए। डॉ गिरि ने ईडीएमसी, दिल्ली पुलिस और डीएचओ, ईडीएमसी, नॉर्थ जोन द्वारा की गई पहल के लिए धन्यवाद दिया। यह काया कल्प कार्यक्रम को भी गति देगा जो किसी अस्पताल की चारदीवारी के बाहर अतिक्रमण नहीं करने पर जोर देता है, जिसे जीटीबी अस्पताल निरंतर प्रयासों से हासिल करने की कोशिश कर रहा था और अब हासिल करने में सक्षम रहा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.